मुंह के छाले एक बहुत ही आम समस्या है| मुंह के अंदर के सभी हिस्से बहुत ही मुलायम और संवेदनशील होते हैं और ऐसे हिस्सों पर यदि छाले आ जाए तो बहुत मुश्किल होता है| सुनने और देखने में यह बहुत छोटी-सी बात लगती है परंत यह काफ़ी तकलीफ़देह होता है| अकसर बच्चे इससे परेशान रहते हैं | कभी कभी ये छाले बहुत ही गंभीर समस्या का रूप धारण कर लेते हैं|

यदि सही समय पर और सही तरीके से इसकी देख-रेख और इलाज न कराया गया तो अंततः कष्टदायक सिद्ध होता है| मुंह में छाले होने पर आपका खान-पान भी गड़बड़ हो जाता है| नमकीन और मसालेदार भोजन तो लिया ही नहीं जा सकता| मुंह में छाले होने के कई कारण हैं और इसके निवारण के भी कई उपाय हैं| यूँ तो इसके इलाज़ के लिए बाज़ार में कई तरह के मरहम उपलब्ध होते हैं, परंत कई ऐसे घरेलु उपाय हैं जिसके द्वारा इससे छुटकारा पाया जा सकता है|

मुंह के छालों का घरेलू उपचार – Home Remedies for Mouth Ulcer in Hindi

1. मट्टा (Butter Milk)

मट्टा मुंह के छालों का एक बहुत ही प्रभावी घरेलु नुस्खा है| मट्टा में अम्लीय गुण होते हैं| इस अम्लीय गुण के कारण इसका सेवन करने से छालों से होने वाले दर्द से जल्दी निज़ात पाया जा सकता है| मट्ठे में दुग्धाम्ल या लैक्टिक एसिड की उपस्थिति इसको फायदेमंद बनाती है| दुग्धाम्ल जीवाणु को पनपने नहीं देते है और जो जीवाणु हैं उन्हें भी मार देते हैं| अगर मुंह के छालों का प्रमुख कारण जीवाणु संक्रमण है तो मट्टा बहुत ही कारगर होता है| दिन में दो बार मट्टा (Butter Milk) से कुल्ला करने पर ये छाले जल्दी ही ठीक हो सकते हैं|

2. नारियल का पानी (coconut water)

नारियल का पानी बहुत ही लाभदायक होता है और मुंह के छालों को ठीक करने में इसका महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है| इस रोग के दौरान आप अधिक से अधिक मात्रा में नारियल का पानी का सेवन करें| यह न सिर्फ स्त्राव के सूजन को काम करता है बल्कि इसको भविष्य में फिर से आने से रोकता भी है|

3. संतरे या नारंगी का जूस (Orange Juice)

यह रोग विटामिन सी की कमी के कारण हो सकती है| संतरे में विटामिन सी की मात्रा अच्छी होती है| दिन में दो बार संतरे का जूस लें| इसके सेवन से बहुत जल्दी आराम मिलेगा|

4. एलो वेरा (Aloe Vera)

एलो वेरा या घृत कुमारी एक अत्यंत ही लाभकारी पौधा है और इसे बहुत से रोगों में इस्तेमाल किया जाता है | इसे एक दर्दनाशक दवा के रूप में इस्तेमाल भी किया जाता है | यह मुंह में पाये जाने वाले जीवाणु को भी मर देता है जो इस समस्या का मूल कारण होता है | एलो वेरा का जेल मुंह के अंदर लगाया जाता है जहां पर इन्फेक्शन हो | इसमें दर्दनाशक गन के होने से दर्द में भी बहुत आराम मिलता है | इसके सेवन से कब्ज में भी रहत मिलती है | कब्ज के कारण भी मुंह के छालों की समस्या हो सकती है | एलो वेरा न की इस रोग से निदान दिलाता है अपितु इसे बार बार आने से भी रोकता है |

5. नीम (Margosa Tree)

नीम में निम्ंबिन, निंबिडिनिन, निंबोलाइड और निंबडीक अम्ल पाया जाता है | इन सब पदार्थो के कारण नीम का पेड़ और उससे मिलने वाले सभी चीजों का आयुर्वेद में बहुत महत्तव है | मुंह के छालों में नीम के पत्ते और पेड़ के छाल का इस्तेमाल होता है | नीम के पत्तों में एंटीऑक्सीडेंट बहुतायत मात्रा में पायी जाती है | इसके रस को निचोड़कर लगाने से मुंह की प्रतिरक्षा क्षमता में बड़ोतरी होती है जिसके कारण रोक से जल्दी निजात मिल जाता है | नीम के पत्ते या तुलसी के पत्तों को पानी में अच्छी तरह उबालकर उससे मुंह साफ़ करने पर भी इस समस्या से जल्दी छुटकारा मिल सकता है |

अन्य लाभ

  • ठंडे तरल पदार्थ जैसे तरबूजे का जूस, खीरे का रस और जल का सेवन अधिक मात्रा में करें|
  • गरम पानी में लौंग को खौलाकर उस पानी से दिन में तीन-चार बार कुल्ला करें|

मुंह के छालो का कारण – Causes of Mouth Ulcer

  • मुंह में इन छालों के होने के कई ऐसे कारण हैं जिन्हें हम गंभीरता से नहीं लेते हैं|
  • पेट की अत्यधिक गमी की वजह से ये छाले होते हैं|
  • यदि मुंह को सही तरीके से साफ़-सुथरा न रखा जाए तो गंदगी की वजह से भी छाले आ जाते हैं|
  • खाद्य पदाथों के अधिक सेवन के कारण भी ये हो जाते हैं|
  • हारमोन में परिवर्तन होने के कारण भी मुंह में ये छाले आते हैं|
  • चिंता और तनाव भी इन छालों के कारणों में से एक है|

मुंह के छालो के लक्षण – Symptoms of Mouth Ulcer

  • मुंह के अंदर होंठ के निचले हिस्से में, गालों में या जीभ पर घाव के रूप में ये छाले दिखाई पड़ते हैं|
  • इनकी वजह से मुंह में बहुत दर्द की अनुभूति होती है|
  • जहाँ पर भी ये छाले होते हैं, उस जगह पर सूजन और गाँठ आ जाते हैं|
  • इसकी वजह से जलन महसूस होता है|
  • अत्यधिक दर्द की वजह से बुखार भी हो सकता है|

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *